फैसलो


ईं जुग मांय के कोनी हुवै? जीवणैं पसवाड़ै री जगां डावड़ै पसवाड़ै री चीरा फाड़ी हुज्या। कान री जगां नाक रोओपरेसन हुज्या। अस्पताळां मांय टाबर बदीळज्या। पछै काम इज तो हुय सकै?
नां रै, हुवण दै के सरकार? कदै इज सीध मांय आज्या तो सस्पेंड कोनीं कर दे के? आपरी नौकरी रै लात कुणमारै। अखबारां मांय इज सरकार रो फैसलो उण पढ्यो हो। इण काम नैं अवैध घोषित कर्यो हो। नेम उलंघणमाथै जुरमानूं अर जेळ री सजा हुवै।
सजा रै पाण के थमता हुसी? सजा नैं कुण धारै, बस कमायी हुवणी चाहिजै। दारू, गांजो, भांग, अफीम, हेरोइनके-के कोनी बेचीजै चोरी छिपे। सगळा कामां माथै सजा हुवै पण कुण इज नीं डरै। डरै किंया, ऊपरथळी रा पीसाइंर् इज मांय कमाया जा सकै। पछै तो छोटो सो काम है।
पण जे बो सीध मांय आज्यासी तो ? सजा तो गळत काम करण अर करवावण वाळै दोवूं री इज हुवै।
पछै के करां? जे करवावै तो इज सेको अर जे नीं करवावै तो इज सेको।
खैर सल्ला......... महेस नाको काढ़ सकै। उण री सै` मांय कीं जाण पिछाण इज है।
छेकड़ मांय नौरंग बिचार कर्यो अर महेस रै घरां कानी चाल पड़्यो।
महेस सै` जावण री त्यारी इज करै हो। नौरंग नैं आयो देख` बो कीं थमग्यो। सोच्यो आगली मोटरड़ी पकड़लेस्यां। नौरंग रोज-रोजगो थोड़ी इज घरै आवै। महीनै खंड सूं अेकर गेड़ो लागै।
नौरंग आपरी सगळी बात मांड` महेस नैं बतायी।
''तो पछैं आज इज चाल म्हारै साथै। थारो काम पटादेस्यूं।`` महेस कैयो।
''पीसा-पीसा किता` लागसी ?`` नौरंग आपरो सुवांज देखै।
''पीसा तो लागसी भाईड़ा। कीं सुवांज कर` पीसा सागै ले लेयी। जे बचता रैया तो पाछा ले आयी।`` महेसकैयो।
''ठीक है म्हैं पीसां रो सुवांज कर` आवूं। आज इज चालस्यां।``
''आपांनै आगली मोटरड़ी पकड़नी जरूरी है।`` महेस भोळावण दी।
हामळ भर` नौंरग घरां आयो। फटाफट त्यार हुवण रो आपरी जोड़ायत नैं हुक्म दियो। सै` चालणू है किणीकाम सारू।
''आं टींगरियां नै इज सागै लेज्यांवणी है के ?`` उणरी जोड़ायत धापां कन्नै खड़ी छोरियां कानी देख` कैयो।
''आं तीन-तीन नैं साथै लेय आपां नैं के बारात बणावणी है? आं नैं अठै इज सुलतान रै घरां पटक आव। अरनैंनकी टींगरी पालणैं मांय सूती है के ? उणनैं जगा` न्हुवा-धुवा लेयी। अर उण दिन री भांत उण री फिराकड़ीसींड री भर्योड़ी नीं हुवै। कीं धोयेड़ी हुवै बा पैरायी।`` नौरंग कीं झाळ खांवतो सो बोल्यो।
मोटरड़ी भाजतां-भाजतां सी पकड़ीजी। पण चोखी बात कै हाथ आगी। सूण तो चोखा इज मानो। नौरंग सोच्योअर महेस रै पसवाड़ली सीट माथै बैठग्यो। मोटर भाजी जावै। आखळीयां मांय तकड़ा झटका लागै। सगळीसवारी सीट रो आगलो डंडो पकड़्यां ओकड़ू सी बैठी डलेवर कानी देखै। पण कुण इज डलेवर नैं होळै चालण रोको कैवै नीं।
बस अड्डै सूं उणां टेम्पूड़ो कर लियो अर महेस रै कैयां मुजब टेम्पूड़ो उणां नैं छोड़ दिया।
टेम्पूडै वाळै नै पीसा दंेवती बगत नौरंग री निजर महेस मांथै पड़ी। बो उण रै पीसां कानी देखै हो। मटो महेसतकांवतो होसी कै किता` है ? तो लालची नीं निकळज्या। बिचाळै कीं घपलो कर सकै। नौरंग रै मन मांयभांत-भांत रा बिचार आया।
''मांयली खुंजा मांय पीसा घाललै नौरंग। नीं तो कोई खुंजा काट` पार बोलसी।`` महेस जद कैयी तो नौरंगसमझ्यो।
देख बापड़ै महेस खातर थूं के के सोच्यो। तो आपरली लापरवाही नैं देखै हो। अर थूं......... महेस तो तेरीइमदाद करै। मन खाटो सो होग्यो।
छेकड़ घणी उडीक पाछै बा साम्ही आगी। घणी रूपाळी ही। बाळ कटायेड़ी। घणी लाम्बी पण भरवां। घणीओपमां री साड़ी पैर्योड़ी। नौरंग रो तो उण नैं देख` जीव सो`रो हुग्यो।
महेस नौरंग नैं बारै थमण रो कैय` उणरै साथै इज उण रै चैम्बर मांय बड़ग्यो।
''सोदो पटग्यो भाईड़ा। थूं किस्मत वाळो हो नीं तो किणी री हां कमती इज भरै।`` पाछो आयो तो महेसमुळकतो आयो।
''पीसै टकै री बात करली ही के?`` उण मन मांयली कैयी। कदास काम हुयां पछै ज्यादा मांग लै।
''हां, करली ही। थोड़ा मांय इज पटगी। अर म्हैं हां इज भर दी।`` महेस आडी आडी।
''थोड़ी सी बार पछै आपां नैं काम सारू बुला लेसी..........`` महेस ओजूं बोल्यो।
''तो म्हारी अेकर पैली बात इज करवा देंवतो तो कीं जीसो`रो हो ज्यांवतो।`` नौरंग स्याणफ दिखायी।
गोदी लेयेड़ी छोरी मांय मूतिया कर दिया हा नौरंग रै। उण छोरी नैं सिलपटी माथै बैठी धापली नैं पकड़ायी।
अर पाछौ महेस रै सारै लाग्यो। के बेरो बात करवा दै। पीसा लागै आपणा अर बातां करै महेस? पण ईं बिनाआपणो काम इज को पटै हो नीं।
महेस नौरंग रै मन री जाणग्यो।
''ठीक है चाल।`` कैयर बो ओजूं चेम्बर मांय बडग्यो। नौरंग इज उण सागै।
मांय अेक मोट्यार उण सूं बातां लागर्यो। बै दोवूं अेक कानी खड़्या होग्या। मोट्यार अर उण रूपाळी रो झोड़होर्यो। रूपाळी काम खातर नटै अर बो मोट्यार कैवै कै पीसा पैली दिया। काम तो करणूं इज पड़सी। बा समझावैघणी पण बो कद मानज्या।
नौरंग रै गिरगराट होग्यो। कदै इज आपणै सागैै इज इंर्या नीं कर्दै? सगळी बात के हुयी होसी इण रूपाळी अरइण मोट्यार री? झट दांईं नौरंग रै मन मांय बिचार आयो कै चालो ईं मोट्यार नैं बूझ` इज कुड़कै मांय पगदेस्यां। बारैं तो आयस्सी इज सोच` बो इज होळै सी चेम्बर सूं बारैं आग्यो।
कीं ताळ पछै बो मोट्यार बारैं आयो। बारैं आवंता इज सिलपटी माथै बैठी अेक सोवणी सी लुगाई उण रै सा`रै लागी। नौरंग रै झटको सो लाग्यो। पण सागण बात तो बूझणी ही इज।
''थारी के कहाणी है भाईड़ा। कीं बता तो सही......`` नौरंग उणनैं बूझ इज लियो।
''थे इज ईं काम आयेड़ा हा के .......... ?`` बण मोट्यार बूझ्यो।
हामळ री नौरंग नाड़ हलाई।
''के बताऊं यार, मटी बात री पक्की कोनी। हां भर` नटगी।`` मोट्यार बोल्यो।
'' तो ठा है। कीं आगै बता नीं। क्यांबेई नटगी ?`` नौरंग उतावळ दिखाई।
''यार म्हारो सालखंड पैली ब्याव हुयो। म्हैं अर म्हारी जोड़ायत अेक फैसलो कर्यो। अर उण फेसलै रै पाण आजअठै आया। मटी तींदर करै।`` मोट्यार इज चेम्बर कानी देखतो आपरी सगळी झाळ काढ़णूं चावै।
''बतानीं यार क्यांबेई आडी आडै।`` नौरंग सूं रैयो को गयो नीं।
''यार म्हैं म्हारी घरवाळी नैं चैक करवायी। टाबर हो पेट मांय। अर बो भ्रूण छोरै रो हो।`` बो बोल्यो।
''पछै.........`` नौरंग बूझ्यो।
''अर म्हैं उण नैं कढ़ावणूं चावै हो।`` बण टपदेणी कैय दी।
''क्यूं, छोरै रो भ्रूण। अर बो इज पैली पोत रो। कढावणूं क्यांबेई चावै हो? बावळो तो नीं है।`` नौरंग बीं कानीदेख्यो।
''नीं यार, म्हैं अर म्हारी जोड़ायत इज फैसलो कर्यो हो कै आपां अेक टाबर जामस्या अर बा इजछोरी.........`` बण कैय दी।
नौरंग सूं बोली को पाटी नीं।
''चाल आपां आपणूं फैसलो नीं डिगणद्यां। कीं दूजै अस्पताळ मांय बात पटास्या।`` बो कन्नै खड़ी सोवणी सीलुगाई कानी देखतां थकां कैयो।
नौरंग इज धापली कन्नै गयो। उण रै पेट मांयली छोरी उणनैं अब माड़ी को लागै ही नीं। नौरंग धापली नै पाछोचालण रो कैयो। महेस चेम्बर मांय बैठ्यो डागदरणी सूं बातां इज करै हो।